समर्थक / Followers

सोमवार, 14 फ़रवरी 2011

प्रेम (वेलेंटाइन दिवस पर विशेष)


प्रेम एक भावना है
समर्पण है, त्याग है
प्रेम एक संयोग है
तो वियोग भी है
किसने जाना प्रेम का मर्म
दूषित कर दिया लोगों ने
प्रेम की पवित्र भावना को
कभी उसे वासना से जोड़ा
तो कभी सिर्फ उसे पाने से
भूल गये वे कि प्यार सिर्फ
पाना ही नहीं खोना भी है
कृष्ण तो भगवान थे
पर वे भी न पा सके राधा को
फिर भी हम पूजते हैं उन्हें
पतंगा बार-बार जलता है
दीये के पास जाकर
फिर भी वो जाता है
क्योंकि प्यार
मर-मिटना भी सिखाता !!

25 टिप्‍पणियां:

afsarpathan ने कहा…

prem to sach me jeeva ka ek ang hai.
aapki kavita prem behtar hai.
'aapko dhanywad.
afsar

Rahul Singh ने कहा…

''क्योंकि प्यार
मर-मिटना भी सिखाता''
निराश युवाओं की नजर न पड़े इस पंक्ति पर.

दीप्ति शर्मा ने कहा…

adbhut
bahut sunder rachna

निर्मला कपिला ने कहा…

क्योंकि प्यार
मर-मिटना भी सिखाता !!
सार्थक सन्देश आज की उस युवा पेढी को जो वेलेन्टाईन की आढ मे प्रेम को बदनाम करने पपर तुली हुयी है।

KK Yadava ने कहा…

@ Afsar,
@ Deepti,

कविता को सराहने के लिए धन्यवाद.

KK Yadava ने कहा…

@ Rahul JI,

निराश युवाओं की नजर न पड़े इस पंक्ति पर....बहुत खूब कहा आपने !!

KK Yadava ने कहा…

@ Nirmala Ji,

आपने कविता का मर्म समझा और पसंद किया..कविता को सराहने के लिए धन्यवाद.

यशवन्त माथुर ने कहा…

बेहद खूबसूरत रचना.
सादर

वन्दना ने कहा…

सच यही तो प्रेम होता है…………सुन्दर अभिव्यक्ति।

Akshita (Pakhi) ने कहा…

वेलेण्टाइन डे पर बहुत सुन्दर रचना...पापा को ढेर सारा प्यार और बधाई.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

प्यार सिर्फ
पाना ही नहीं खोना भी है
कृष्ण तो भगवान थे
पर वे भी न पा सके राधा को... waah, itni badi baat aur itni sahajta

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्रेम की गहराई को चित्रित करती कविता।

सतीश सक्सेना ने कहा…

शुभकामनायें आपको!!

डॉ टी एस दराल ने कहा…

काश कि वेलेंटाइन डे मानाने वाले इसका अर्थ भी समझ पाते ।

राज भाटिय़ा ने कहा…

वेलेण्टाइन डे हर साल आता हे ओर यह प्रेम करने वालो को भी हर साल नया प्रेम होता हे, इस लिये हमारी राम राम

RAJARAM RAKESH ने कहा…

PREM KI BAAT HO AUR BHAGWAN SRIKRISHNA KI CHARCHA NA HO TO PREM ADHURA RAH JATA HAI, BHAGWAN SRIKRISHNA NE BHI APNE JEEVAN KE PHALE 10 VARSH SE PAHLE TAK HI PREM KIYA HAI KYOKI 10 VARSH KE BAAD WE VRINDAVAN SE MATHURA CHALE GAYE AUR WAPAS VRINDAVAN NAHI AAYE.UNHONE KEWAL BALYA-AWASHTHA TAK HI BHAGWATI SRI RADHARANI KE SAATH RAHKAR SANDESH DIYA KIYA KI PREM TABHI TAK HAI JAB TAK USME VAASNA NAHI HAI. BHAGWAN SRIKRISHNA AGAR YUVA-AWASHTHA TAK VRINDAVAN ME RAHTE TO HO SAKTA THA KUCH LOG UNKE PREM ME VAASHNA KO BHI JAGAH DEKAR PREM KI KOSH ME VAASNA KA JAGAH BANANE KA PRAYAS KARTE.PREM TABHI TAK JINDA HAI JAB TAK WAH VAASANA SE ACHHUTA HAI.

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

bahut sundar rachna... umda..

Kunwar Kusumesh ने कहा…

भूल गये वे कि प्यार सिर्फ
पाना ही नहीं खोना भी है
कृष्ण तो भगवान थे
पर वे भी न पा सके राधा को
फिर भी हम पूजते हैं उन्हें
पतंगा बार-बार जलता है
दीये के पास जाकर
फिर भी वो जाता है
क्योंकि प्यार
मर-मिटना भी सिखाता !!

प्यार का असली मतलब छुपा है आपकी इन पंक्तियों में.
अच्छा लगा ये कविता और प्रेम पर आपके विचार पढ़कर.

सतीश सक्सेना ने कहा…

प्रेम के अर्थ का ही अनर्थ कर दिया है लोगों ने !!
बड़ी प्यारी और विचार योग्य रचना है ! आपको हार्दिक शुभकामनायें !

mrityunjay kumar rai ने कहा…

प्रेम की गहराई को चित्रित करती कविता।

RAJARAM RAKESH ने कहा…

PREM PAR LIKHNA AUR PADHNA DONO HI BADHIYA LAGTA HAI.PREM JAHAN BHI HOGA WAHA SHANTI, SAMRIDHI, SADVAVNA,SANSKAR,SUCHITA AADI AADI HOGA.

Bhanwar Singh ने कहा…

क्योंकि प्यार
मर-मिटना भी सिखाता...Ab iske age kya kahen.

Bhanwar Singh ने कहा…

साहित्य का प्रकाश यूँ ही चारों तरफ फैलाते रहें
कृष्ण बनकर जग का अँधियारा भगाते रहें.

भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा ‘’डा. अम्बेडकर फेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान-2010‘‘ से सम्मानित होने पर श्री कृष्ण कुमार यादव जी को हार्दिक शुभकामनायें और बधाइयाँ.

Ram Shiv Murti Yadav ने कहा…

बेहतरीन गीत...बधाई.

raghav ने कहा…

प्रेम के भावों से सुसज्जित बहुत सुन्दर और समसामयिक पोस्ट...बधाई.