समर्थक / Followers

गुरुवार, 28 दिसंबर 2023

Navodayans in Varanasi : नवोदयन्स का बनारस क्लब में हुआ समागम, स्कूली दिनों की खट्टी-मीठी यादें हुईं ताजा

जवाहर नवोदय विद्यालय के पुरातन छात्र-छात्राओं के समागम का आयोजन 25 दिसंबर, 2023 को बनारस क्लब में वाराणसी एवं प्रयागराज परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव की अध्यक्षता में किया गया। इसमें उत्तर प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से तमाम नवोदयन्स जुटे और अपनी जड़ों को मजबूत करने का संकल्प लिया। समाज के विभिन्न क्षेत्रों में नवोदयन्स की उपलब्धियों के विस्तार के साथ स्कूली दिनों की खट्टी-मीठी यादें ताजा कीI स्वागत के बीच सभी ने एक से बढ़कर एक काव्यमय प्रस्तुतियाँ दीं।








इस अवसर पर नवोदय विद्यालय के पूर्व विद्यार्थी रहे श्री अमित कुमार, पुलिस उपायुक्त, वरुणा जोन, श्री  केके पांडेय, मुख्य वित्त अधिकारी, नगर निगम,  सुश्री सुनीता गुप्ता, उपजिलाधिकारी, राजातालाब, श्री विनोद सिंह, असिस्टेंट कमाण्डेन्ट, सी.आर.पी.एफ, श्री रविंद्र देव, हेड, पेप्सिको इंडिया, श्री बृजेश त्रिपाठी डिप्टी रजिस्ट्रार, बीएचयू, श्री सुरेंद्र प्रसाद, प्रोफेसर, भौतिक विज्ञान, बीएचयू, श्री घनश्याम यादव, अध्यक्ष नवोदय एल्युमिनाई वेलफेयर एसोसिएशन, कविवर श्री दान बहादुर सिंह, बिजनेस मैन श्री रजनीश कुमार, सोमेश, सुश्री ममता पांडेय, चीफ नर्सिंग इंचार्ज, बीएचयू, श्री हरिलाल, प्रोफ़ेसर, शारीरिक शिक्षा, श्री सुजीत कुमार, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी, श्री राम जी त्रिपाठी, हैंडीक्राफ्ट्स प्रमोशन अधिकारी, सुश्री सुनैना, दंत रोग विशेषज्ञ, श्री अमित सिंह, असिस्टेंट लाइब्रेरियन, राजर्षि स्कूल ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी, अभय यादव, निदेशक, आर. के. फार्मेसी कॉलेज, श्री अभिषेक वर्मा शारीरिक शिक्षा विभाग, बीएचयू, श्री सत्य विजय, असिस्टेंट प्रोफ़ेसर, भौतिकी विज्ञान, श्री सूर्य प्रकाश यादव, श्री उपेंद्र कुमार, श्री शिवम सहित तमाम नवोदयन्स ने भागीदारी की और अपने विचार साझा किये।



अध्यक्षता करते हुए वाराणसी एवं प्रयागराज परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि देश भर में नवोदय विद्यालय के 15 लाख से अधिक विद्यार्थियों का नेटवर्क समाज को नई दिशा देने के लिए तत्पर है। राजनीति, प्रशासन, सैन्य सेवाओं से लेकर विभिन्न प्रोफेशनल सेवाओं, बिजनेस और सामाजिक सेवाओं जैसे तमाम क्षेत्रों में नवोदय विद्यालय की प्रतिभाएँ अपना परचम फहरा रही हैं और अपनी उपलब्धियों से नई पीढ़ी हेतु प्रेरणास्रोत का कार्य कर रही हैं।आज नवोदय एक ब्रांड बन चुका है। उन्होंने कहा कि, नवोदय विद्यालय से निकले 29 साल हो गए पर अभी भी वही लगाव और अपनत्व बरकरार है।

कार्यक्रम का संयोजन श्री दान बहादुर सिंह, श्री रजनीश कुमार और श्री सोमेश ने किया।









सोमवार, 30 अक्तूबर 2023

Purvanchal Gaurav Samman : वाराणसी और प्रयागराज परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव 'पूर्वांचल गौरव सम्मान' से विभूषित

वाराणसी और प्रयागराज परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव को प्रशासन और साहित्य के क्षेत्र में विशिष्ट उपलब्धियों हेतु "पूर्वांचल गौरव सम्मान" से सम्मानित किया गया। वरिष्ठ प्रशासक के साथ एक लेखक, साहित्यकार व ब्लॉगर के रूप में भी ख्याति प्राप्त श्री यादव को उक्त सम्मान रेडिसन ब्लू होटल, गोरखपुर में आयोजित एक भव्य समारोह में उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री डा. संजय निषाद, सांसद डा. रमापति राम त्रिपाठी व गोरखपुर विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. पूनम टंडन ने 29 अक्टूबर, 2023 को प्रदान किया। पूर्वांचल गौरव सम्मान समिति के अध्यक्ष श्री वेद प्रकाश राय ने बताया कि प्रशासन, शिक्षा, चिकित्सा, साहित्य, संस्कृति, लोककला, कृषि, उद्योग सहित विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट योगदान देने वाली विभूतियों को पूर्वांचल गौरव सम्मान से विभूषित किया गया।






गौरतलब है कि 2001 बैच के भारतीय डाक सेवा के अधिकारी श्री कृष्ण कुमार यादव सामाजिक, साहित्यिक और समसामयिक मुद्दों से सम्बंधित विषयों पर प्रमुखता से लेखन करने वाले साहित्यकार, विचारक और ब्लॉगर भी हैं। विभिन्न विधाओं में उनकी सात पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं - 'अभिलाषा' (काव्य-संग्रह), 'अभिव्यक्तियों के बहाने', 'अनुभूतियाँ और विमर्श', 16 आने 16 लोग' (निबंध-संग्रह), इंडिया पोस्ट : 150 ग्लोरियस इयर्ज', 'क्रांति-यज्ञ : 1857-1947 की गाथा', 'जंगल में क्रिकेट' (बाल-गीत संग्रह)। सामाजिक सहभागिता, संवेदनशीलता और निरंतर लोगों से रचनात्मक संवाद करते हुए आपने डाक सेवाओं के माध्यम से वित्तीय समावेशन, डिजिटल इण्डिया, अंत्योदय और नवाचार को हमेशा बढ़ावा दिया है।















देश-विदेश में विभिन्न प्रतिष्ठित सामाजिक-साहित्यिक संस्थाओं द्वारा आपको शताधिक सम्मान और मानद उपाधियाँ प्राप्त हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव द्वारा ‘‘अवध सम्मान’’, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल श्री केशरीनाथ त्रिपाठी द्वारा ‘‘साहित्य-सम्मान’’, छत्तीसगढ़ के राज्यपाल श्री शेखर दत्त द्वारा ‘‘विज्ञान परिषद शताब्दी सम्मान’’, सिक्किम के राज्यपाल श्री लक्ष्मण आचार्य द्वारा "साहित्य शिल्पी सम्मान" से विभूषित आपको अंतर्राष्ट्रीय ब्लॉगर्स सम्मेलन, नेपाल, भूटान और श्रीलंका में भी सम्मानित किया जा चुका है। विभागीय दायित्वों और हिन्दी के प्रचार-प्रसार के क्रम में अब तक श्री यादव लंदन, फ़्रांस, जर्मनी, नीदरलैंड, दक्षिण कोरिया, भूटान, श्रीलंका, नेपाल जैसे देशों की यात्रा कर चुके हैं।













साभार 

रविवार, 1 अक्तूबर 2023

डिजिटल क्रान्ति के युग में हिन्दी में विश्व भाषा बनने की क्षमता - कृष्ण कुमार यादव

हिन्दी में विश्व भाषा बनने की क्षमता है। जैसे-जैसे विश्व में भारत के प्रति दिलचस्पी बढ़ रही है, वैसे-वैसे हिन्दी के प्रति भी रुझान बढ़ रहा है। आज 'अमृत काल' में  परिवर्तन और विकास की भाषा के रूप में हिन्दी के महत्व को नये सिरे से रेखांकित किया जा रहा है। हिन्दी अपनी सरलता, सुबोधता, वैज्ञानिकता के कारण ही आज विश्व में तीसरी सबसे बड़ी बोली जाने वाली भाषा है। वैश्विक स्तर पर हिंदी बोलने व समझने वालों की संख्या 1अरब 40 करोड़ है।इस आधार पर देखें तो 2030 तक दुनिया का हर पांचवां व्यक्ति हिंदी बोलेगा। दुनिया के 200 से ज्यादा विदेशी विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जा रही है। उक्त उद्गार वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने प्रधान डाकघर, वाराणसी में 29 सितंबर को आयोजित हिंदी पखवाड़ा समापन व पुरस्कार वितरण समारोह की अध्यक्षता करते हुए व्यक्त किये। 

इस अवसर पर पोस्टमास्टर जनरल ने विशिष्ट अतिथि द्वय वरिष्ठ साहित्यकार प्रो. श्रीप्रकाश शुक्ल और आकाशवाणी के सहायक निदेशक श्री राजेश गौतम संग क्षेत्रीय कार्यालय, प्रधान डाकघर, वाराणसी पूर्वी मंडल और पश्चिमी मंडल के कुल 48 डाककर्मियों को विभिन्न प्रतियोगिता के विजेता रूप में पुरस्कृत किया। 

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि हिंदी हमारे रोजमर्रा की भाषा है और इसे सिर्फ पखवाड़ा से जोड़कर देखने की जरूरत नहीं है। जरूरत इस बात की है कि हम इसके प्रचार-प्रसार और विकास के क्रम में आयोजनों के साथ ही अपनी दैनिक दिनचर्या से भी जोड़ें। हिन्दी आज सिर्फ साहित्य और बोलचाल की ही भाषा नहीं, बल्कि विज्ञान-प्रौद्योगिकी से लेकर संचार-क्रांति एवं सूचना-प्रौद्योगिकी से लेकर व्यापार की भाषा बनने की ओर अग्रसर है। डिजिटल क्रान्ति के इस युग में वेबसाइट्स, ब्लॉग और सोशल मीडिया ने हिन्दी का दायरा और भी बढ़ा दिया है। 

वरिष्ठ साहित्यकार एवं बीएचयू में प्रोफ़ेसर श्रीप्रकाश शुक्ल ने कहा कि हिन्दी सिर्फ एक भाषा ही नहीं बल्कि हम सबकी पहचान है, यह हर हिंदुस्तानी का हृदय है। हिंदी की सबसे बड़ी ताकत उसके बोलने वालों की बड़ी संख्या है। लोकभाषा और जनभाषा के रूप में हिंदी भारतीय समाज के बड़े हिस्से का प्रतिनिधित्व हजारों वर्षों से करती रही है। हिंदी हमारी मातृभाषा के साथ-साथ राजभाषा भी है, ऐसे में इसके विकास के लिए जरुरी है कि हम हिंदी भाषा को व्यवहारिक क्रियाकलापों के साथ-साथ राजकीय कार्य में भी प्राथमिकता दें।

आकाशवाणी के सहायक निदेशक श्री राजेश गौतम ने कहा कि राजभाषा के साथ-साथ भारतीय भाषाओं और बोलियों के बीच संपर्क भाषा के रूप में भी हिंदी ने नए आयाम गढ़े हैं। राजभाषा के रूप में हिंदी के विकास के लिए भारत सरकार द्वारा अनेक प्रयास किए गए हैं। 

सहायक निदेशक राजभाषा श्री बृजेश शर्मा ने बताया कि डाक विभाग की ओर से हिंदी पखवाडे़ के दौरान निबंध, पत्र लेखन, टंकण, काव्य पाठ, टिप्पणी व आलेखन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया, जिसमें सभी कर्मियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया और हिन्दी पखवाड़े को सफल बनाने में अपना योगदान दिया।  

कार्यक्रम में प्रवर डाक अधीक्षक राजन, सहायक निदेशक राजभाषा बृजेश शर्मा, आरके चौहान, सहायक अधीक्षक दिलीप कुमार, अजय कुमार, डाक निरीक्षक श्रीकांत पाल, इंद्रजीत पाल, दिलीप पांडेय, सर्वेश सिंह, साधना मिश्रा, सहित तमाम विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम में स्वागत सहायक निदेशक राजभाषा बृजेश शर्मा, आभार ज्ञापन प्रवर डाक अधीक्षक राजन और संचालन सहायक अधीक्षक अजय कुमार ने किया।




शुक्रवार, 15 सितंबर 2023

हिंदी भारतीय परंपरा, संस्कृति व संस्कारों की सच्ची संवाहक - कृष्ण कुमार यादव

हिंदी भारतीय परंपरा, जीवन मूल्यों, संस्कृति व संस्कारों की सच्ची संवाहक, संप्रेषक और परिचायक है। इसके प्रचार-प्रसार से देश में एकता की भावना और सुदृढ़ होगी। सृजन एवं अभिव्यक्ति की दृष्टि से हिंदी दुनिया की अग्रणी भाषाओं में से एक है। ऐसे में हिंदी में गर्व से कार्य करने और अपनी भाषा को समृद्ध करने में सभी को योगदान देना होगा। उक्त उद्गार वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने डाक विभाग द्वारा क्षेत्रीय कार्यालय में आयोजित हिंदी दिवस और तदनुसार आरम्भ हिंदी पखवाड़ा का शुभारंभ करते हुए व्यक्त किये। इससे पूर्व उन्होंने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर और दीप प्रज्वलित कर हिंदी पखवाड़ा का शुभारम्भ किया।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि अनेकता में एकता को स्थापित करने की सूत्रधार 'हिन्दी भाषा' भारतीय संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है,इसकी सबसे बड़ी ताक़त इसकी मौलिकता और सरलता है। भारत सरकार द्वारा विकास योजनाओं तथा नागरिक सेवाएं प्रदान करने में हिंदी के प्रयोग को निरंतर बढ़ावा दिया जा रहा है। आज संयुक्त राष्ट्र संघ जैसी संस्थाओं में भी हिंदी की गूंज सुनाई देने लगी है।

सहायक निदेशक राजभाषा श्री बृजेश शर्मा  ने बताया कि डाक विभाग की ओर से 14 से 29 सितंबर तक आयोजित हिंदी पखवाडे़ में तमाम प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जायेगा।

कार्यक्रम में सहायक निदेशक राजभाषा बृजेश शर्मा, आरके चौहान, लेखाधिकारी प्लाबन नस्कर, सहायक लेखाधिकारी संतोषी राय,  डाक निरीक्षक श्रीकान्त पाल, रमेश यादव, श्रीप्रकाश गुप्ता, राकेश कुमार, विवेक कुमार, मनीष कुमार, रामचंद्र, सहित तमाम तमाम विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन  शंभु  प्रसाद गुप्ता ने किया।









हिंदी भारतीय परंपरा, संस्कृति व संस्कारों की सच्ची संवाहक - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव