समर्थक / Followers

रविवार, 22 जून 2008

मानवता के दुश्मन

रात का सन्नाटा
अचानक
चीख पड़ती है मौतें
किसी ने हिन्दुओं को दोषी माना
तो किसी ने मुसलमानों को
किसी ने नहीं सोचा
न तो ये हिंदू थे, न मुसलमान
थे मानवता के दुश्मन।
***कृष्ण कुमार यादव***

1 टिप्पणी:

hindi.literature ने कहा…

Manvata ke dushman kavita samaj ko uska chehara dikhati hai.Dharm ke nam par ho rahi kisi ki ladai ko uchit nahin tharaya ja sakta!!