समर्थक / Followers

रविवार, 17 अगस्त 2008

आटा की चक्की

गाँव की एक अनपढ़ महिला
ने मुझसे पूछा
सुना है अमेरिका ने
आटा चक्की को पेटेंट
करा लिया है
बेटा, इससे क्या होता है
मैंने बताया
देखो अम्मा
अब हमें आटा चक्की
खोलने से पहले
उनकी उनकी इजाजत लेनी होगी
वह भड़क गई
ऐसा कैसे हो सकता है
यह तो हमारे पुरखों की अमानत है
मैंने सोचा
गाँव की एक अनपढ़
महिला भी यह सोचती है
पर पता नहीं ऊपर बैठे
पढ़े-लिखों को कब चेत आयेगा।
***कृष्ण कुमार यादव***

7 टिप्‍पणियां:

शोभा ने कहा…

मैंने सोचा
गाँव की एक अनपढ़
महिला भी यह सोचती है
पर पता नहीं ऊपर बैठे
पढ़े-लिखों को कब चेत आयेगा।
बहुत ज्वलन्त प्रश्न उठाए हैंस्वागत है नए ब्लाग का।

शहरोज़ ने कहा…

bhai khoob aap jamkar kaam kar rahe hain.aapka blog nisandeh zara hatkar hai.

http://shahroz-ka-rachna-sansaar.blogspot.com/
http://hamzabaan.blogspot.com/
http://saajha-sarokaar.blogspot.com/

Dr. Uday 'Mani' Kaushik ने कहा…

सादर अभिवादन
पहले तो हिन्दी ब्लोग्स के नए साथियों में आपका असीम स्वागत है
दूसरे आपकी अच्छी रचना के लिए बधाई
चलिए अपने परिचय के लिए अभी मैंने एक गीत ब्लॉग पे डाला है उसकी कुछ पंक्तियाँ भेज रहा हूँ
देखियेगा

और कुछ है भी नहीं देना हमारे हाथ में
दे रहे हैं हम तुम्हें ये "हौसला " सौगात में

हौसला है ये इसे तुम उम्र भर खोना नहीं
है तुम्हें सौगंध आगे से कभी रोना नहीं
मत समझना तुम इसे तौहफा कोई नाचीज है
रात को जो दिन बना दे हौसला वो चीज है

जब अकेलापन सताए ,यार है ये हौसला
जिंदगी की जंग का हथियार है ये हौसला
हौसला ही तो जिताता ,हारते इंसान को
हौसला ही रोकता है दर्द के तूफ़ान को

हौसले से ही लहर पर वार करती कश्तियाँ
हौसले से ही समंदर पार करती कश्तियाँ
हौसले से भर सकोगे जिंदगी में रंग फ़िर
हौसले से जीत लोगे जिंदगी की जंग फ़िर

तुम कभी मायूस मत होना किसी हालात् में
हम चलेंगे ' आखिरी दम तक ' तुम्हारे साथ में

आपकी प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा में
डॉ उदय मणि कौशिक
http://mainsamayhun.blogspot.com

Amit K. Sagar ने कहा…

बहुत बढ़िया. बेहतर.

Sandeep ने कहा…

Aapki Koshish Sarhniye hai.Agar Kuch Samay nikalkar kuch likh paon to zaroor likhna chahunga .Bachpan mein akansha thi ki hindi teacher banoonga ..bade hote hote dimag ne kishi dusri or dhakel diya. Shayad
aaise kuch blog ke sahare hindi mein kuch likh pau .

Sandeep chatterjee
Singapore

डाकिया बाबू ने कहा…

nice poem.

ujjwal subhash ने कहा…

Kaya Bat Hain Aaap Ki Iss Soch Ka Kayal Huun ...Bahu Hi Sachi BAAT KAHI HAIN AAPNE EK DAM SEEDHE ANDAJ Main........Bahut BHdahayee