समर्थक / Followers

शुक्रवार, 6 अगस्त 2021

प्रेमचंद की रचनाएं आज भी भारतीय समाज का आईना हैं - पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव

हिन्दी साहित्य के इतिहास में उपन्यास सम्राट के रूप में प्रसिद्ध मुंशी प्रेमचंद के पिता अजायब राय श्रीवास्तव लमही, वाराणसी में डाकमुंशी (क्लर्क) के रूप में कार्य करते थे। ऐसे में प्रेमचंद का डाक-परिवार से अटूट सम्बन्ध था। मुंशी प्रेमचंद को पढ़ते हुए पीढ़ियाँ बड़ी हो गईं। उनकी रचनाओं से बड़ी आत्मीयता महसूस होती है। ऐसा लगता है मानो इन रचनाओं के  पात्र हमारे आस-पास ही मौजूद हैं। प्रेमचंद जयंती (31 जुलाई) की पूर्व संध्या पर उक्त उद्गार चर्चित ब्लॉगर व साहित्यकार एवं वाराणसी  परिक्षेत्र  के पोस्टमास्टर जनरल  श्री कृष्ण कुमार यादव ने व्यक्त किये। 




पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि लमही, वाराणसी में जन्मे डाककर्मी के पुत्र मुंशी प्रेमचंद ने साहित्य की नई इबारत  लिखी। आज भी तमाम साहित्यकार व शोधार्थी लमही में उनकी जन्मस्थली की यात्रा कर प्रेरणा पाते हैं। हिंदी कहानी तथा उपन्यास के क्षेत्र में 1918 से 1936  तक के कालखंड को 'प्रेमचंद युग' कहा जाता है। प्रेमचंद साहित्य की वैचारिक यात्रा आदर्श से यथार्थ की ओर उन्मुख है। वे सही अर्थों में एक प्रगतिशील लेखक थे। रहस्य-रोमांच की दुनिया से कथा-संसार को यथार्थवाद की ओर मोड़ने और स्थापित करने का श्रेय मुंशी प्रेमचंद को ही जाता है। मुंशी प्रेमचंद स्वाधीनता संग्राम के भी सबसे बड़े कथाकार हैं। गोदान, कर्मभूमि, निर्मला, शंखनाद, सेवा सदन, रंगभूमि व वरदान जैसे कई प्रसिद्ध उपन्यासों के रचयिता प्रेमचंद की कृतियों में वास्तव में पूर्ण हिन्दी और विस्तृत हिन्दुस्तान बसता है। आंचलिक पात्रों की व्यथा से लेकर अंतर्राष्ट्रीय साम्राज्यवाद तक तथा मनुष्यता व संवेदना तक सभी विषयों पर निर्बाध कलम चलाने वाले प्रेमचंद जी की रचनाएं आज भी भारतीय समाज का आईना हैं। श्री कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि, प्रेमचंद की स्मृति में भारतीय डाक विभाग की ओर से 30  जुलाई 1980 को उनकी जन्मशती के अवसर पर 30 पैसे मूल्य का एक डाक टिकट भी जारी किया जा चुका है।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि, प्रेमचन्द के साहित्यिक और सामाजिक विमर्श आज भूमंडलीकरण के दौर में भी उतने ही प्रासंगिक हैं और उनकी रचनाओं के पात्र आज भी समाज में कहीं न कहीं जिन्दा हैं। उन्होंने साहित्य के सौंदर्य बोध को बदला और गांव, गरीब, किसान, मज़दूर, शोषित, दलित और स्त्रियों की मनोदशा को केंद्र में रखकर,अपनी रचनाओं के जरिए जनमानस में सामाजिक समस्याओं व कुरीतियों के प्रति चिंतन पैदा किया। हिंदी-उर्दू के महान कथाकार, उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद ने साहित्य को सच्चाई के धरातल पर उतारा। प्रेमचन्द जब अपनी रचनाओं में समाज के उपेक्षित व शोषित वर्ग को प्रतिनिधित्व देते हैं तो निश्चिततः इस माध्यम से वे एक युद्ध लड़ते हैं और गहरी नींद सोये इस वर्ग को जगाने का उपक्रम करते हैं। श्री यादव ने कहा कि भारतीय समाज के जीवन और जीवन से जुड़े जीवन संघर्ष की कथा और व्यथा को अपनी लेखनी की अनवरत साधना से प्रवाहित होने वाली धारा के द्वारा उपन्यास और कहानियों के माध्यम से बयाँ करने वाले कलम के सिपाही प्रेमचन्द ने अपने को किसी वाद से जोड़ने की बजाय तत्कालीन समाज में व्याप्त ज्वलंत मुद्दों से जोड़ा। उनका साहित्य शाश्वत है और यथार्थ के करीब रहकर वह समय से होड़ लेती नजर आती हैं।














आज भी प्रासंगिक हैं प्रेमचन्द के साहित्यिक व सामाजिक विमर्श - पोस्टमास्टर जनरल  कृष्ण कुमार यादव 

डाककर्मी के पुत्र मुंशी प्रेमचंद ने दी  हिंदी साहित्य को नई ऊँचाइयाँ  : पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव


कोई टिप्पणी नहीं: