समर्थक / Followers

रविवार, 1 मई 2011

मजदूर करे तो क्या करे..




दुनिया भर के मजदूरों एक हो



जुल्म और शोषण का मिलकर जवाब दो



न जाने कैसे-कैसे नारे और वायदे




पर मजदूर एक हों तो कैसे



जिसे उन्होंने अपना नेता चुना



बैठ गया है वह सत्ता की पांत में



अब तो उनकी भाषा भी नहीं समझता




फिर मजदूर करे तो करे क्या



अब तो उनमें भी वर्ग भेद हो गया है



उनके अगुआ बन बैठे हैं दलाल






फिर बुर्जुआ वर्ग का क्या दोष



वह तो चाहता है उनका हक देना



पर आड़े आते हैं नेता और दलाल



आखिर फिर इन्हें कौन पूछेगा




शायद अब मार्क्स को भी गढ़नी पडे़



शोषितों व बुर्जुआ की एक नयी परिभाषा !!
एक टिप्पणी भेजें