समर्थक / Followers

बुधवार, 23 मार्च 2016

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है...



सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है जोर कितना बाजु-ए-कातिल में है !!

..... होली वही जो संकल्पों की याद दिलाए, 
होली वही जो मस्ती में रहकर भी 
अपने कर्तव्यों का एहसास दिलाए।


आज होली के साथ उन शहीदों को भी याद कर लें, जिनकी कुर्बानी की बदौलत ही हम आज इस खुली फिजाँ में साँस ले रहे हैं  Krishna Kumar Yadav.
एक टिप्पणी भेजें