समर्थक / Followers

शुक्रवार, 2 जनवरी 2015

जीवन शुभ हो, सृजन शुभ हो


वर्ष नव,
हर्ष नव,
जीवन उत्कर्ष नव।

लम्हा-लम्हा अंतत: एक साल और हमारी जिंदगी से गुजर गया। जिंदगी के बसंत में एक और बसंत जोड़कर 2014 का बीता साल हमें ना जाने कितनी अनगिनत यादें देकर छोड़ कर चला गया। लेकिन यह भी सही है कि वर्ष 2014 ने  चलते-चलते हमें वर्ष 2015 के रूप में एक नया साथी भी दिया है, जिसके साथ हमें पूरे 365 दिन हंसते मुस्कुराते बिताने हैं। आइए पूरी गर्मजोशी से नव वर्ष 2015 का स्वागत करें । 















 आपको और आपके समस्त परिवारजनों को वर्ष 2015 के  इस पावन आगमन की शुभ बेला में हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ देता हूँ एवं  प्रभु से प्रार्थना करता हूँ की इस नववर्ष का प्रत्येक नया दिन आपके जीवन में अनेकानेक सफलताएँ एवं अपार खुशियाँ लेकर आये।  आप स्वस्थ रहें, सफल रहें , उर्जावान रहें , नित नई ऊचाईयां छुएं और नए प्रतिमान गढ़ें। जीवन शुभ हो, सृजन शुभ हो , प्रकृति शुभ हो, सर्वत्र शुभ ही शुभ हो ।।





एक टिप्पणी भेजें