समर्थक / Followers

शनिवार, 19 दिसंबर 2009

दक्षिण कोरिया में जियांगबाक पैलेस - सियोल की यात्रा

कोरिया प्रवास के दौरान 20 नवम्बर को हम लोग सियोल स्थित जियांगबाक पैलेस गए. इतिहास के गलियारों में जाकर किसी देश की सभ्यता-संस्कृति को समझना हो तो वहां के राजमहलों, किलों की सैर कीजिये. आपने प्रशिक्षण-काल में मैं जहाँ भी गया, वहाँ यही किया. राजस्थान और मध्यप्रदेश के अधिकतर जगहों की खाक छान मरी. ऐसे में एक लम्बे समय बाद किसी पैलेस को देखना सुखदायी था. जियांगबाक पैलेस न सिर्फ खूबसूरत है, बल्कि स्थापत्य कला का भी सुंदर दृश्य संजोता है.

It was in 1395, three years after the Joseon Dynasty was founded by Yi Seong-gye, when the construction of the main royal palace was completed and the capital of the newly founded dynasty moved from Gaeseong to Seoul (then known as Hanyang). The palace was named Gyongbokgung, the “Palace Greatly Blessed by Heaven.’’ With Mount Bugaksan to its rear and Mount Namsan in the foreground, the site of Gyeong-bokgung Palace was at the heart of Seoul according to the traditional practice of geomancy.



एक टिप्पणी भेजें