समर्थक / Followers

रविवार, 8 नवंबर 2009

माँस का लोथड़ा

खामोश व वीरान-सी आँखें
आसपास कुछ ढूँढती हैं
पर हाथ में आता है
सिर्फ माँस का लोथड़ा

किसी के लिए वह हिन्दू का है
किसी के लिए मुसलमां का
किसी ने उसे सांप्रदायिकता
का उन्माद बताया
किसी ने धर्मनिरपेक्षता
का राग अलापा

पर उस दुधमुंहे मासूम
का क्या दोष
माँ की छाती समझ
वह लोथड़े को भी मुँह
लगा लेता है
मुँह में दूध की बजाय
खून भर आता है

लाशों के बीच
खून से सना मुँह लिये
एक मासूम का चेहरा

वह इस देश का भविष्य है !!
एक टिप्पणी भेजें